तू साथ देना ऐ ज़िन्दगी…

 

तू साथ तब तक तो देना ऐ ज़िन्दगी
की प्यास हर पूरी हो जाए.
कहीं पानी छलछला रहा हो आँखों में
और प्यास अधूरी ही रह जाए…

तू साथ तब तक तो देना ऐ ज़िन्दगी
की सांस हर पूरी हो जाए.
कहीं खुशबुओं की फुहार हो आसपास
और सांस अधूरी ही रह जाए…

तू साथ तब तक तो देना ऐ ज़िन्दगी
की याद हर पूरी हो जाए.
कहीं मिलने चला आये वो, राह तकी जिसकी
और याद अधूरी ही रह जाए…

तू साथ तब तक तो देना ऐ ज़िन्दगी
की आस हर पूरी हो जाए.
कहीं औंसुओं के रुकने की घडी आये
और आस अधूरी ही रह जाए…

तू साथ तब तक तो देना ऐ ज़िन्दगी
की रात हर पूरी हो जाए.
कहीं सुबह के सूरज का इंतज़ार करें हम
और रात अधूरी ही रह जाए…

तू साथ तब तक तो देना ऐ ज़िन्दगी
की आवाज़ हर पूरी हो जाए.
कहीं गीत के बोल हो ज़बान पर मेरी
और आवाज़ अधूरी ही रह जाए…

पर तू साथ तब ना देना ऐ ज़िन्दगी
की बात ये पूरी हो जाए.
टपकती रहे आँखें, तड़पता रहे दिल
और मांगने पे भी मौत ना आये.

Love,
Lipi Gupta
Copyright: Lipi Gupta 9/26/2017 7:20 AM IST

Facebook Shoutout:

READ  The Comeback
News Reporter
Writer, Poet, Blogger, Editor.

6 thoughts on “तू साथ देना ऐ ज़िन्दगी…

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this:
Skip to toolbar
Read previous post:
Writer’s Block…

I know I wanna write, but don't know what about. My brain has wandered everywhere, guess not on right route....

Close