Latest Blogs

किसी को उम्रभर की तन्हाई मेरे ख़ुदा मत देना।

Jallianwala Bagh

I Don’t Want To Be Me…

Art of Being Still

तुम क्या खुद को ख़ुदा समझते हो?

18 May 2021, 08:05 AM

31°c , India

किसी को उम्रभर की तन्हाई मेरे ख़ुदा मत देना।

किसी को उम्रभर की तन्हाई मेरे ख़ुदा मत देना।

  • 23

किसी को उम्रभर की तन्हाई मेरे ख़ुदा मत देना।
उसका गुनाह केवल मोहब्बत है, उसे सजा मत देना।।

और बेहद मुश्किल होता है किसी की वफाओं पर ऐतबार करना,
हो सके अगर ऐ दोस्त, तो किसी को दग़ा मत देना।।

कुछ पागलपन जो तुमने किये है, कुछ हदें हम लांग गए।
कई राज़ है दरमियां हमारे, तुम सारे आम जता मत देना।।

जो करीबी बनते है हमारे असल में स्वांग करते है,
तुम बातों ही बातों में कोई बात बता मत देना।।

और बड़ी जरूरी है मोहब्बत बूद-ऐ-जहां की ख़ातिर,
तुम अपनी खुदगर्ज़ी की ख़ातिर, अज़ाब-ऐ-वफ़ा मत देना।।

 

Copyright: Nitin Kalal, 24/12/2020, 7:40 IST

Share this article

Leave Comment